آگم ڪيو اچن...

फ़िहिरिस्त

सुर कल्याणु

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

अव्वलि अल्लाहु अलीमु। अआला आलम जो धणी।
क़ादिरु पंहिंजी क़ुदरत सें। क़ाइमु आहे क़दीमु।
वाली। वाहिदु। वह्दहु। राज़िक़ु रब्बु रहीमु।
सो साराहि सचो धणी। चई हम्दु हकीमु।
करे पाण करीमु। जोड़ूं जोड़ जहान जी॥

बैत - 2

वह्दहु ला शरीक लहु। जां थो चईं ईअं।
तां मञि मुहम्मदु कारणी। निरतूं मंझां नींहं।
तां तूं वञियो केअं। नायें सिरु ॿियनि खे॥

बैत - 3

वह्दहु ला शरीक लहु। जॾहिं चयो जन्नि।
तनि मञ्यो मुहम्मद कारणी। हेजां साणु हींय्यअन्नि।
तॾहिं मंझां तन्नि। अवतड़ि को न ओलियो॥

बैत - 4

वह्दहु ला शरीक लहु। जनि उतो सें ईमान।
तनि मञ्यो मुहम्मद कारणी। क़लब साणु लिसान।
ऊइ फ़ाइक़ में फ़र्मान। अवतड़ि कंहिं न ओलिया॥

बैत - 5

अवतड़ि कंहिं न ओल्या। सुतड़ि व्या सालिम।
हेकाई हेकु थ्या। अहद सें आलिम।
बे बहा बालिम।आगे किया अॻहें॥

बैत - 6

आगे किया अॻहें। निसोरो ई नुरु।
ला ख़ौफ़ुं अलेहिम वला हुम यह्ज़नून। सचनि कोनहे सूरु।
मोले कियो मअमूरु। अंगु अज़ल में उनि जो॥

बैत - 7

वह्दहु जे वढिया। किया इललाह अध।
से धड़ पसी सध। कंहिं अभाॻीअ न थिये॥

बैत - 8

वह्दहु जे वढिया। इललाह अध किया।
मुहम्मद रसूलु चई। मुसलमान थिया।
आशिक़। अब्दुल्लातीफ़ चे। इनहीअ पहि पिया।
तेलांहं धणी धुता। जेलांहं विया वह्दत गॾिजी॥

बैत - 9

वह्दहु जे वढिया। इललाह सें ओरीनि।
हिंयूं हक़ीक़त गॾियो। तरीक़त तोरीनि।
मअर्फ़त जी माठ सीं। ॾेसांदरु ॾोरीनि।
सुखि न सुता कॾहीं।वेही न वोड़ीनि।
कुल्हनिऊं कोरीनि।आशिक़ अब्दुल्लतीफ़ु चे॥

बैत - 10

वह्दहु ला शरीक लहु। ॿुधइ न ॿोड़ा।
की तो कनें सुआ। जे घुट अंदर घोड़ा।
ॻाड़ींदें ॻोढ़ा। जिति शाहिद थींदइ सामुहां॥

बैत - 11

वह्दहु ला शरीक लहु। ईउ विहाइजि वीउ।
खटें जे हारांएं। हन्धु तुंहिंजो हीउ।
पाणां चवन्दुइ पीउ। भरे जामु जन्नत जो॥

बैत - 12

वह्दहु ला शरीक लहु। ईउ हेकड़ाईअ हक़्क़।
ॿियाईअ खे ॿख्खु। जनि विधो से विरसिया॥

बैत - 13

सिरु ढूंढियां। धड़ न लहां। धड़ ढुंढियां सिरु नाहि।
हथ करायूं आङ्रियूं। विया कपिजी कांहिं।
वह्दत जे विहांइ। जे विया से वढिया॥

बैत - 14

वह्दतां कस्रत थी। कस्रत वह्दत कुल्लु।
हक़ु हक़ीक़ी हेकड़ो। ॿोली ॿीअ म भुल्लु।
हू हुलाचो हुल्लु। बिल्लाहि सन्दो सॼणें॥

बैत - 15

बैत - 16

तूं चओ अललहु हेकिड़ो, ॿी वाइई विसअरी छॾि
तिअं तूं हिनययं सैन गॾु, सॼणु सअह पसअह में

बैत - 17

तूं चओ अललहु हेकिड़ो। ॿी वारिज म वाइई।
सिखिजि तूं सा अई। जेका मुकी सॼणें॥

बैत - 18

पाणहिं जल्लु जलालहु। पाणहिं जानि जमालु।
पाणहिं सूरति पिरीअं जी। पाणहिं हुस्नु कमालु।
पाणहिं पीरु मुरीदु यिए। पाणहिं पाण ख़यालु।
सभ सभोई हालु। मंझां ई मअलूम थिए॥

बैत - 19

पाणहिं पसे पाण खे। पाणहिं ई महबूबु।
पाणहिं ख़ल्क़े ख़ूबु। पाणहिं तालिबु तनि जो॥

बैत - 20

सो हीउ। सो हू। सो अजलु। सो अल्लाहु।
सो पिरीं। सो पसाहु। सो वेरी। सो वाहरू॥

बैत - 21

आशिक़ु चौ म उन खे। म की चौ माशूक़ु।
ख़ालिक़ु चौ म ख़ाम तूं। म की चौ मख़्लूक़ु।
सलिज तंहिं सुलूकु। जो नाक़िसिआं निङ्यो॥

बैत - 22

पड़ाॾो सो सॾु। वरु वाईअ जो जे लहीं।
हुआ अॻिहीं गॾु। ॿुधण में ॿ थिया॥

बैत - 23

एकु क़सरु दरअ लखअ। कोड़ोयें कणिसि ॻिड़्खयूं।
जेॾांहं कर्यां परखअ। तेॾांहं साहिब सामुहूं॥

बैत - 24

कोड़ेयें कायाऊं तुंहिंजियूं। लिखनि लखअ हज़ार।
जीउ सभकंहिं जीअ सें। दरसन धारूं धारु।
प्रयमि तुंहिंजा पारअ। किहड़ा चई कीअं चूआं॥

वाई

सभका प्रयां कूं पूॼे।
नींहं नेणें ॻुणु ॻाल्ह वो॥
जा चेतायम चित में। सा थो सॼणु ॿुझे।
नींहं नेणें ॻुणु ॻाल्ह वो॥
लाति जा लतीफ़ जी। सॾु तुंहिंजो सुॼे।
नींहं नेणें ॻुणु ॻाल्ह वो॥

दास्तान ॿिओ
बैत - 1

अघी अघाई। रंजु पिरियां खे रसियो।
चखियम चङाई। सोरांघे सूरीअ तां॥

बैत - 2

"अंधा ऊंधा वेॼ। खल किॼाड़िया खींएं?
असां ॾुखी ॾील में। तूं पियारियें पेॼ।
सूरी जनीं सेॼ। मरणु तनि मीशाहिदो॥"

बैत - 3

"सूरीअ सॾु थियो। का हलन्दी जेॾियुं?
वञणु तनि पियो। नालो नींहुं ॻिन्हनि जे॥"

बैत - 4

सूरीअ सॾु करे। उभी आशिक़नि खे।
जे अथई सध सिकण में। तो कऔ म। पेरु परे।
सिसी धार धरे। पुछिज। पोइ पिरीतणू॥

बैत - 5

सूरी आहि सींगारु। अॻहें आशिक़नि जो।
मुड़णु मोटणु मेहणो। थिया निज़ारे निरवारु।
कुसण जो क़रारु। असिलि आशिक़न खे॥

बैत - 6

सूरी सींगारे। असिलि आशिक़नि खे।
लुॾिया किन। लतीफ़ु चे। थिया नेज़े निज़ारे।
कोठियो किनारे। आणियो चाढ़े उन खे॥

बैत - 7

सूरीअ जे सऔ वार। ॾेहाड़ियो चंगि चढ़ीन।
जिम विरिजी छॾियें। सिकण जी पचार।
प्रति न पसीं पार। नींहुं जिआईं नङिओ॥

बैत - 8

सूरीअ मथे सेण। किहड़ी लेखे सनरा।
जेलंह लॻा नेण। ते सूरियाई सेज थी॥

बैत - 9

सूरीअ चढ़णु। सेॼ पसणु। ईउ कमु आशिक़नि।
पाहूं कीन पसनि। साऊ हलनि सामुहां॥

बैत - 10

पिहरीं काती पाइ। पुछिजि पोइ पिरीतणू।
ॾुखु प्रयां जो ॾील में। वाॼट जीअं वॼाइ।
सीख़ुनि माहु पचाइ। जे नालो ॻीअड़ुइ नींहं जो॥

बैत - 11

कातीअ कोनिहे ॾोहु।ॻनु वढीन्दड़ हथ में।
पसियो परि अजीब जी। लिचियो वञो लोहु।
आशिक़नि अन्दोहु। सदा माशूक़नि जो॥

बैत - 12

काती तिखी म थिए। मरु मुनियाई होइ।
मान विर्मनि तोइ। मूं प्रयां जा हथड़ा॥

बैत - 13

काती जा क़रीब जी। सा हॾ चीरे चमु।
आशिक़न पंहिंजो अङु। लिल्लाहि कारणि वढियो॥

बैत - 14

जे तो सिकणु सिखियो। त कातीअ पए म कंझु।
सुपेरियां जे सूर जो। माढ़ुन ॾिजे न मंझु।
अन्दरि ईउ अहंजु। सान्ढिजि सुखाऊं करे॥

बैत - 15

जां वढीं तां वेहु। न त वठियो वाट वांउ तूं।
हीउ तनीं जो ॾेहु। काती जनीं हथ में॥

बैत - 16

काती जानि ॻरे। मान लंऊं लॻो तनि सीं।
मूह्बतअ जे मैदान में। वञां पेर भरे।
अॾीअ सिरु धरे। मान कुहनिहूं सुपिरीं॥

बैत - 17

अॻियां अॾीन वटि। पोयनि सिर संबाहिया।
काटि त पूइ क़बूल में। मछुण भायें घटि।
मथा मुहायनि जा। पिया त ॾिसीं पटि?
कलाड़के हटि। कुसण जो कोपु वहे॥

बैत - 18

जे अथी सिक सु्र्क जी। त वंउ कलाड़नि काटी।
लाहे रखु लतीफ़ु चे। मथो वटि माटी।
तिक ॾेई पिक पीउ तूं। घोट मंझां घाटी।
जो वरिनह विहाटी। सो सिर वटि सरो साहंगो॥

बैत - 19

जे अथई सधअ सुर्क जी। त वंउ कलाड़के हटि।
लाहे रखु। लतीफ़ चे। मथो माटीअ वटि।
सिरु ॾेई में सटि। पीजि के पियालियूं॥

बैत - 20

जे अथई सध सुर्क जी। त वंउ कलाड़के कूइ।
महेसर जे मध जी। हुति हॾिहीं हूइ।
जां रम्ज़ परूड़ियम रूइ। तां सिर वटि सुर्की सॻुणी॥

बैत - 21

जे अथई सिक सुर्क जी। त वंउ कलाड़के ॻरि।
वढणु। चीरणु। पहति उनीन जी परि।
जे वटी पूएई वरि। त सहंगी आहि। सय्यदु चे॥

बैत - 22

सिर वटि सर्व साहनगो। वठीं छो नह वरी
क़दुर क़ीफ़ कमाल जी। ख़बर ीअ खरी
सुरकी जिनि सरे। तिनि जूं बठनि पास बुठयूं॥

बैत - 23

बठनि हेठां बाहि। मछुण आॻ उजहाइययं।
रुपो कंदा राह। कऊउनर कलाड़ीं आया॥

बैत - 24

नाणे नाहि ककूह। मुलिह् मंहंगो मन्धु।
संबाहिज। सय्यदु चे। काटण कारणि कन्धु।
हीउ तनीं जो हन्धु। मटनि पासि मरनि जे॥

बैत - 25

म करि सध सरे जी। जे तूं टारियें टूहु।
पीते जंहिं पासे थिए। मंझां रॻुन रूहु।
काटे चखु ककूहु। लाहे सिरु लतीफ़ु चे॥

बैत - 26

सधड़िया सरे जूं। कुहु पचारूं कन्नि?
जुह् कात कलाड़नि कढिया। त मोटियो पोइ वञनि।
पिकूं से पीअनि। सिर जनीं जा सटि में॥

बैत - 27

सिरु जुदा। धड़ु धार। दोॻु जनीं जा देॻ में।
से मरु कनि पचार। हकिया जनि जे हथ में॥

बैत - 28

देॻें दोॻ कढ़नि। जिति कड़ियें कड़को न लहे।
तिते तबीबनि। चाक चिकन्दा छॾिया॥

बैत - 29

आशिक़ ज़हर पियाक। विहु पसियो विहुसन घणू।
कड़े ऐं क़ातिल जा। हमेशा हेराक।
लॻियनि लंऊं लतीफ़ु चे। फ़ना क्या फ़िराक़।
तोणे चिकनि चाक। त पि आह न सलनि आम खे॥

बैत - 30

असिलि आशिक़ पांहिंजी। सिसी न सांढीनि।
लाहियो सिरु। लतीफ़ु चे। साहु सलाड़ियो ॾेनि।
कुल्हनियऊं काटीनि। पुछन पोइ पिरितणू॥

बैत - 31

असिलि आशिक़नि जो। सिरु न सांढणु कमु।
सऔ सिसिनिआं अॻ्रो। सन्दो दोसां दमु।
हिउ हॾो ऐं चमु। पिक प्रयां जीअ न पड़े॥

बैत - 32

कोड़यीं उभा केतिरा। वढिओ सिर सञीं।
जे पिहित नह पीएई सॼणें। तह वढील था वारियुनि॥

बैत - 33

सिसी से घुरनि। जे वाटीन्दड़ विच में।
ऊइ की ॿियो पुछनि। सरो जनि संबाहियो?

बैत - 34

जे मथे वटि मिड़नि। त सभकंहें सध थिए।
सिर ॾिने सट जुड़े। त आशिक़ ईअं अचनि।
लिधा ते लभनि। मुलिह् महंगा सुपिरीं॥

बैत - 35

मुलिह् महंगो क़तरो। सिकणु शहादत।
असां इबादत। नज़ारु नाज़ु पिरियनि जो॥

वाई

वाई

दास्तान टिओ
बैत - 1

उथियारे उथी विया।मंझां मूं आज़ारा।
हबीब ई हणी विया। पीड़ा जी पचार।
तबीबनि तंवार। हॾ न वणे हाण मूं॥

बैत - 2

हॾ न वणे हाण मूं। वेॼनि जी विसाल।
हिन मुंहिंजे हाल। हबीबु ई हादी थियो॥

बैत - 3

हबीबु ई हादी थियो। रहनुमा राहत।
पीड़ा नियाईं पाणु सीं। लाए ॾेई लत।
सुपेरियां सिहत। ॾिनियमि मंझां ॾुखन्दे॥

बैत - 4

औरि ॾुखन्दो ऊ थिए। हादी जंहिं हबीबु।
तिरु तफ़ावत न करे। तंहिं खे को तबीबु।
रहनुमा रक़ीबु। साथरि सिहत सुपिरीं॥

बैत - 5

साथरि सिहत सुपिरीं। आहे न आज़ारु।
मज्लिस वेर मिठो थिए। कोठीन्दे क़हारु।
ख़ंजरु तंहिं ख़ूबु हणे। जंहिं सीं थिए यारु।
साहिबु रब्बु सत्तारु। सोझे रॻूं साह जूं॥

बैत - 6

रॻूं थियूं रबाबु। वॼनि वेल सभकंहें।
लुछणु कुछणु न थियो। जानिबु री जबाबु।
सोई सन्धीदुम सपिरीं। कयस जंहिं कबाबु।
सोई ऐनु अज़ाबु। सोई राहत रूह जी॥

बैत - 7

सोई राह रदु करे। सोई रहनुमा।
व तुइज़्ज़ु मन् तशाउ। व तुज़िल्लु मन् तशाउ॥

बैत - 8

पर में पुछियाऊं। इश्क़ जे असबाब खे।
दरूं हिन दर्द जो। ॾाढो ॾसियाऊं।
अख़िरु वल्अस्र जो। ईहें उताऊं।
तिंहां पोइ आऊं। सिकां थी सलाम खे॥

बैत - 9

सिकीं कोहु सलाम खे। करीं कोहु न सलाम?
ॿिया दर तनि हराम। ईउ दर जनीं देखियो॥

बैत - 10

मिठायां मिठो घणु। कड़ो नाहि कलामु।
सुकूत ई सलामु। प्रयां सन्दे पार जो॥

बैत - 11

प्रयां सन्दे पार जी। मिड़ई मिठाई।
कान्हे कड़ाई। चखीं जे चेति करे॥

बैत - 12

ॼाणी ॿुझी जनि। जतोसीं सूर सुञ की।
तूं कीअं सन्दयूं तनि। पर सीं पचारूं करयें?

बैत - 13

तो जनीं जी ताति। तनि पुणि आहे तुंहिंजी।
फ़ज़्कुरूनी अज़्कुरुकुम। ईअ परूड़िज बाति।
हथ काती। ॻुड़ु वाति। पुछणु पर पिरीं जी॥

बैत - 14

हॿीबनि हेकार। मंझां महर सॾु कयो।
सो मूं सभि ॼमार। ओरणु उहो ई थियो॥

बैत - 15

"पाॿोहे हेकार। मूंहां पुछियो सॼणें।
अलस्तु बिरब्बिकुम। चयाऊं जंहिं वार।
सन्दी सूर किनार। तन तॾांहकूं न लहे॥"

बैत - 16

"पाॿोहियो पुछनि। किथो हथु हबीब जो?
नेज़े हेठियां नींहं जे। पासे पाणु न कनि।
आशिक़ अजल सामुहां। ऊंचे ॻाटि अचनि।
कुसणु क़ुर्बु जनि। मरणु तनि मुशाहिदो॥"

बैत - 17

"कोठे कुहे सुपिरीं। कोठे कुहण साणु।
नेज़े हेठियां नींहं जे। पासे करि म पाणु।
ॼुलु। विञाए ॼाणु। आशिक़ अजल सामुहूं॥"

बैत - 18

"कोठणु क़रीबनि जो। ऐनु तड़णु आहि।
ईअ उल्टी ॻालह्ड़ी। सिक वरन्दी साहि।
आसर हॾ म लाहि। छिनणु ॻंढणु उनि जो॥"

बैत - 19

कहुय सौ करा लही। कोठे सौ कहुय।
सोवे मूओन महुय। सोवे राहत रओह जी॥

बैत - 20

"कुहनि तां कर लहनि। कर लहनि तां कुहनि।
सेई माइ मुहनि। सेई राहत रूह जी॥"

बैत - 21

"कुहे सो कर लहे। कोठे सो क़रीबु।
इहा आदत सिखियो। हर ज़मां हबीबु।
तिछे सो तबीबु। सोई राहत रूह जी॥"

बैत - 22

"कुहनि ऐं कोठीनि। ईअ पर सन्दी सॼणें।
सूरीअ चाढ़ियो सुपिरीं। ॾंभु ॾेहाणे ॾीनि।
वेठा विरिहु वटीनि। आउ वढोड़िआ वहाइ तूं॥"

वाई

मैनों माही। अशक़ु रांझनु दा।
रातीअन दरदु ॾींहां दरमांदी लोकान ख़बर न काइई।
दारूं हिना दर्द जो। आहीं तूं इलाही।
मूंखे मर्ज़ा मारिओ। साहिब हथ सघाइई॥

वाई

बैत - 1

"जोड़े जोड़ जहान जी। जॾहिं जोड़ियाईं।
ख़ावन्दु ख़ास ख़लिक़े। मुहम्मदु मीकाईं।
कल्मो तंहिं करीम ते। चिटो चायाईं।
अना मोलाक व अन्त महबूबी। ईअं उताईं।
ॾिखी ॾिनाईं। ॿई सराऊं सय्यदु चे॥"

बैत - 3

जोड़े जोड़ जहान जी। पाणु कियाईं परिवारु।
हामी। हादी। हाशमी। सरिदारें सरिदारु।
सूंहे सहाबनि सथ में। मंझि मसिजिदि मण्यादारु।
चारई चङा चौधारु। हुआ हेकान्दा हबीब सें॥

बैत - 4

वह्दहु ला शरीक लहु। चई चून्दो अउ।
फ़र्ज़। वाजिब। सुनतूं। तिनिऊं तरक म पाइ।
तोबह् सन्दी तस्बीह। प्ड़हण साणु पुॼाइ।
नांगा पोहिंजे नफ़्स खे। का संईं राह सूंहाइ।
त सन्दी दोज़ख़ बाहि। तो ओॾियाई न अचे॥

वाई

"थीन्दो तन तबीबु। दारूं मुंहिंजे दर्द जो॥
ॿुकी ॾीन्दुम ॿाझ जी। अची शाल अजीबु।
दारूं मुंहिंजे दर्द जो॥
पिरियनि अची कयो। सन्दो ग़ौरु ग़रीबु।
दारूं मुंहिंजे दर्द जो॥
ॾुखन्दो सभोई ॾूरु कयो। मंझूं तन तबीबु।
दारूं मुंहिंजे दर्द जो॥
अदियूं अब्दुल्लतीफ़ु चे। हातिक आहि हबीबु।
दारूं मुंहिंजे दर्द जो॥"

वाई

मंधु पीअंदे मूं, साॼनु सही सुञातो॥
पी पियालो ईश्क़ जो। सभुकी सम्झयोसूं।
साॼनु सही सुञातो॥
प्रियां सन्दे पार जी। अन्दर आॻ अथूं।
साॼनु सही सुञातो॥
जीअणु नाहे जॻ में। ॾींहं मिड़ेई ॾूं।
साॼनु सही सुञातो॥
अला अब्दुल लतीफ़ चे। आहीं तूंहीं तूं।
साॼनु सही सुञातो॥

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

तूं ह़बीबु। तूं तबीबु। तूं दर्द जी दवा।
जानिब मुंहिंजे जीअ में। आज़ारा जा अन्वा।
साहिब ॾे शफ़ा। मियां मरीज़नि खे॥

बैत - 2

तूं हबीबु। तूं तबीबु। तूं दर्द जो दारूं।
दोआ आहीं दिल खे। तुनहिंजीऊं तनवारूं।
कुरीयन थी कारूं। ॿुकी ॿिअनआन नह थई॥

बैत - 3

तूं हबीबु। तूं तबीब। तूं दारूं खे दर्दनि।
तूं ॾीअनि तूं लाहीयं, ॾअतर खे ॾखंदनि।
तॾहिईं फिकियूं फ़रक़ु कनि। जॾहिईं अमरु कुरीयन उन खे॥

बैत - 4

तूं हबीबु तूं तबीबु। तूंहीं डठनि डबु।
तूं ॾीअनि तूं लाहीयं। तूंहीं हादी रबु।
आहम ीउ अजबु। जीअं वारिओ वेॼु वहिअरीयं॥

बैत - 5

जान के करे तबीबु। दअरूं हिना दर्द जा।
हणिओ से हबीबु। उखोड़िओ अधा करे॥

बैत - 6

हणु हबीब हठु खणी। थीक म। थोरो लाइ।
प्रेम तुनहंजी घाइ। मरां तह मानु लहां॥

बैत - 7

हणु हबीबा हथा खणी। दिल में तेरी दांहं।
कहअन तह कूक थई। सबुर आउऊं नह सहअन।
कंहिं खे ीअन चवााँ। तह मूं खे मारिअओ सॼणें॥

बैत - 8

हणु हबीबा हथु खणी। ॿनगान लही ॿाणु।
माॻहीं मूं मिनहुन थई। झोलीअ विझां पाणु।
इन पर साजन साणु। मना मुक़ाबिलो मूं थई॥

बैत - 9

जिते हबीबा हणनि। भरे नाउकु नींहं जी।
तते तबीबनि। वञी विॼअ विसिरी॥

बैत - 10

हणी जे हबीबु। मुहबती मया करे।
पुछान कीना तबीबु। हून्द घावनि सैन ई घारीअन॥

बैत - 11

चोरी चनगु ॿनगु लही। हबीबन हनयौसि।
ॿुजहान ॿाणु लॻोसि। कानारिओ करु खणी॥

बैत - 12

कानारिआ कुणिकन। जिनी लोहु लङनि में।
मुहबत जे मैदान में। पुआ लाल लुछनि।
पाणहीं ॿधनि पटीवुन। पाणहीं चिकिआ कने।
वटां वाढोड़ीनि। रही अचिजे रातिड़ी॥

बैत - 13

रहे अचिजे रातिड़ी। तिनि वाढोड़ीनि वटाअ।
जिनि खे सूरु सरीर में। घटि मनझअनरा घाअ।
लिकाअई लौकाअ। पाणहीं ॿधनि पटियूं॥

बैत - 14

पाणहीं ॿधनि पटीऊं। पाणहीं धकु धुअन।
वीॼनि विरची छॾिआ। अॼु की काल्हा मरनि।
कंहिं खे कीना चवनि। तह दरदु असां जे दिल में॥

बैत - 15

वाढोड़िकीअ मनहींअ। अॼु पिणि कंझो कंजहा।
जे पिणि पियें संझा। तह हो पिनीऊं हो पटियूं॥

बैत - 16

वाढोड़िकीअ मनहींअ। अॼु पिणि कहिड़ी दअनहन।
वेॼु वराई ॿांहं। चोरी चाक नहिअरआ॥

बैत - 17

वेचारा वाढोड़। सदा शाकिरा सूरा सें।
ताणीं मथे तोड़ा। ओरे कनि नह आसिरो॥

बैत - 18

वाढोड़ीनि वाइई। सदा आहे सूर जी।
जेका अथनि मन में। सलिन नह साइई।
ओड़क अहिआई। ॻोलिअओ ॾिसनि ॻाल्हिड़ी॥

बैत - 19

सघनि सुधि नह सूर जी। तह घायल कीअं घारियुनि।
पिअल पासो पटा तान॒। वाढोड़िआ नह वारियुनि।
पर में पचन पिरींअ खे। हअई हंजूं हारियुनि।
सॼण जेई सारें। तिनि रोयो वहिअमी रातिड़ी॥

बैत - 20

सघनि सुधि नह सूर जी। था रुणिकनि रंजूरी।
पुआ आहीं पुट में। मथिनि मअमूरी।
लॻीं लंउं लतीफ़ु चअई। सदा जीअ सूरी।
पिरिति जिनि पूरी। तिनि रवयो वहिअमी रातिड़ी॥

बैत - 21

रंजूरीन रुणिक। सदा आहे सूर जी।
कंहिं जंहिं ॾुख ॾसाइया। लथीनि कीन जुड़िक।
इन भलारीअ भुणिक। नीइई हेकर हुज़ोरी क़िआ़॥

बैत - 22

आयल उनि नह विसहअन। हंजूं जेई हारियुनि।
आणिओ आबु अखीउनि मां। ॾेह खे ॾेखारीं।
सॼण जेई सअरीं। से नह रों नह चवनि के॥

वाई

विरिसिआ वेॼ वेचारा। भुलया वेॼ वेचारा।
दिल में दर्द प्रियन ज। मन में मर्ज़ु पिरीं जो।
उथियो वेॼा म वेहो। वञो डभ्भ खणी।
ॿुकी ॾींदा ॿाझ जी। आया सूर धणी।
आया जीअ जियारा॥

दास्तान ॿिओ
बैत - 1

तिनि तबीबा नह तूं। सुधि नह लहीं सूरा जी।
सांढ पंहिंजा डबड़ा। खॾ खणी में भूं।
कानह घुरिजे मूं। हयाती होतनि रीअ॥

बैत - 2

वीॼनि सैन वाइईअ पुआ। किरी नह किआउऊं।
जे पंद पारिआउऊं। तह सिघाइई सघा थिआ॥

बैत - 3

वीॼनि सैन वाइईअ पिअआ। किरी कनि नह पाणा।
अघा उन अहुञाण। पसो सूर सुझाया॥

बैत - 4

अघा ई सघा थिआ। वटि वीॼनि।
तरिसी तबीबनि। चेठइ हून्दा चङा कीआ॥

बैत - 5

आहे घणो अघनि जो। तर्सु तबीबनि।
कयो वसु वीॼनि। तां किरीअ री की न थिए॥

बैत - 6

तर्सु तबीबनि जो। जॾुनि कियो न जाति।
जो वीॼनि जे वात। दारूआ तंहिं दूर थिआ॥

दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
बैत - 10

मोखी चोखी न थिए, अस़ुल ओछी ज़ाति
वटियूं डे॒ई वाति, मतारा जंहिं मारिया

दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों
बैत - 1

हर हर हराई। वञणु दर दोस्तनि जे।
पाड़े ॾांहुं पिर्यनि जी। उञु म अवाई।
अल्हड़ थी आछ म तूं। वाटाड़ुनि वाई।
लाइंदइ लतीफ़ु चे। सूरां सरहाई।
ॻुझो ॻाल्हाइ। पिरित वटजे पाण में॥

वाई

यार सॼण जे फ्ऱाकु, ड़ी जेॾियूं आऊं मारे
दर दोसनि जे किअं जो हूंदा, मूं जेहा मुशताक़ु, ड़ी जेॾियूं, आऊं मारे
जाथी काथे महबूबनि जी, आहि हुसन जी हाक, ड़ी जेॾियूं, आऊं मारे
सुरमो सही करि अखियुनि जो, ख़ासु परियां जी ख़ाकि, ड़ी जेॾियूं, आऊं मारे
अबदाललतीफ़ु ची, पिरीं असां जो हमेशह हुसनाक, ड़ी जेॾियूं, आऊं मारे

वाई

दोसु पेही दरु आईयो, थिओ मलणु जो साईयो
ॾींहं पुॼाणूं आणे असांखे, मोले मुहबु मिलाईयो
थिओ मलणु जो साईयो
वयो विछोड़ो, थियो मेलापो, वाहिदु वाउ वराइयो
थिओ मलणु जो साईयो
हो जंहीं जो ॾसु ॾूराॾो, ओॾो अॼु सो आईयो
थिओ मलणु जो साईयो
अब्दुल लतीफ़ चे अची अजीबनि, पाण फ़ज़ुलु फ़रमाईयो
थिओ मलणु जो साईयो

सुर खंभात

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

खणी नेणा ख़ुमार मां। जॾहीं नाज़ा किआउऊं नज़रु।
सूरज शाख़ूं झकीऊं। कूमाणो क़मरु।
तारा कतीऊं ताइबु थिआ। दीखींदी दिलबरु।
झको थिओ जोहरु। जानीअ जे जमाला सें॥

वाई

वहिली वंउ म विहामी, रहु रात, राईंदियस पिरींअ खे
शमा थींदियस शब्ब में, ईन ख़ुशी खां खामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
बाबूअनि सन्दी बाहि जीअं, ॿरां शाल उझामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
परिति जा पीतम जी, सा कीन परूड़े आमी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
मूं खे मूं पिरियनि जो, आहे दर्दु दवामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
आहियां यारु सय्यदु जो, कान रहे का ख़ामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
हू जो लंउ, लतीफ़ चे, मूं खे आहे मुदामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
रोशनु थियां रुञुनि में, जे हुआं ईनहीं लामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
कारी सा क़ियाम सईं, होतु जंहिं जो हामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें
आयुम तंहिं लोक सें, जेसीं मां चवनि सुवामी
रहु रात, राईंदियस पिरींअ खें

दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
बैत - 1

भला ई आहीं। पिरीं भलाईअ पांहिंजे।
सॿाझा सिर चड़िही। ॾोरापो न ॾियनि।
जे मूं ॾानहुन मदयून थियनि। त सॼण सॼायुने में॥

सुर सुर राॻु

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

माना पुछनिई सुपिरीं। चितां लाहि म चुर।
उनीं जा अमुरा । खणु त ख़ाली न थियें॥

बैत - 4

मान पुछनिई सुपिरीं, चित में रखिजि चेतु
सिड़ु धुआरे साफ़ु करि, साबुण सां सुपेतु
सामूंडी सुचेतु, थीउ त पहुचीं पार खे

वाई

सहसें शुकिराना। कोड़ियें भाल करीम जा
हमदु चइजि हकीम खे। जोर हणी जाना।
तो ॾ॓खारे तो धणी। बातिन जा बाना।
मतां। मर्द विसारीयें। साहिब जी सना।
दोसतु रखी दिल में। पड़हु लालनु लिसाना।
जफ़ा ॾेई जीअ खे। थीउ फ़िकुर मंझ फ़ना।
तुसी तो सीं तोहु करे। मन आगो इहसाना।
कढु तूं दग़ा दिल मां। ॿान्हप सें। ॿान्हा।
साहिब वणे सचु सैन। थीउ दानहु। दीवाना
जे तस्लीम सें तहक़ीक़ु हुआ। से कीअं अमाना?
जाॻिया जे जबारु लइ। सेई समाना।
फ़ज़्कुरुनी अज़्कुरुक्मु। कहियो क़ुराना।
वश्कुरुली वला तक्फ़ुरून। कढु तूं कुफ़राना।
सभु संवारिया सुपिरींअ। कोल तो कना।
चङी चइजि चाह मां। मदह ईउ मना।
ताइबु थियो तकिड़ा। जोशा। जुवाना।
त लहीं तूं लतीफ़ु खां। अमुनु ईमाना ॥

दास्तान ॿिओ
वाई

मूं में तूं मौजूदु। आउऊं असूंहीं आहीअन।
माणुहनि जी मोटण जो। साइईंअ हथ सुजूदु।
जयलाह रसिआ बोदि खे। तयलाह थिआ नाबूदु।
अखड़ीऊं अखड़ीउनि खे। सिकिओ कनि सुजूदु।
इन दर सीइई अगहिआ। जिनि विञायो वुजूदु॥

दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं

सुर सामूंडी

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

पॻहु पासे घार, आयलि सामूंन्डियनि जे
विझी जीउ जंजार, जिम वञनिई ओहिरी

बैत - 2

पॻहा पासे पचु। आयलि सामूंन्डियन जे।
मन में ॿारे मचु। जिम वञनिई ओहिरी॥

दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
वाई

आयलि करियां कीअं, मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे
वयो वणिजारो ओहरे , मूं खे चाड़े चीअं
मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे
सामूंडियनि जे सङ खे, रुआं रातो ॾींहुं
मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे
उॾोहीअ जीअं ॾुखड़ा, चड़िया चोटीअ सीअं
मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे
गूंदर मथां ॼिन्दड़ी वरीया वलियुनि जीअं
मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे
मादरि पाए मुन्डियूं, वञां हादीअ सीअं
मुहिंजो नींहुं अपलिओ ना रहे

दास्तान चोथों
बैत - 5

ॾिठी ॾीअरी। सामूंडीनि सिड़ह सनबाहिअआ।
विजिहयो वरु वंजहा खे। रौअई वणिजारी।
मारींदइ मारे। पिरिह सूर पिरीं जा॥

सुर सुहिणे

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

वहु तिख। वाहुड़ तिख। जिति नींहं तिख निराली
जिनि खे इश्क़ु अमीक़ु जो। ख़िल्वत ख़ियाली।
वारियें से। वाली हिंअड़ो जनीं हथि कियो॥

बैत - 19

वणनि वेठा कांग, विचीं थी वेला करे
घिड़ी घड़ो हथि करे, सुणी सान्झीअ ॿांग
सीई ढूंढे सांग, जिते साहड़ु सुपिरीं

वाई

कहिड़ी मंझ हिसाब ? हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
गोली भॼु गुनाह खां, कोन्हे सूलु स़वाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
न की सूत में, न की मंझ रबाबु हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
ख़ुदियाइ ख़ूबु थियें, लईयें जे लुआब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
पलीतु ई पाकु थिए, जुनबयो मंझ जनाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
सो न कंहीं शए में, जेकी मंझ तुराब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
हूइ जे जर्किया जर ते, से तां सभ हुबाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
हादीअ सें हुन पार ॾे, रिड़हीं साणु रकाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
चन्बो विझी चोर खे, आऊ छुड़ि , उक़ाबु हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
दीदु विञाइ म दोस्त जो हे मंझ हिजाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
कसरत आहे क़ुरब में, इदग़ाम में एराब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
फ़ना विझी फ़म में, कारण थीउ कबाबु हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
ॾे त़हूरा तनि खे, जे सिकनि लाइ शराब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला
मुठीअ कीया मर्ज़ु में, जावा सभु जवाब हुअणु मुंहिंजो होत रे, ला

दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों

सुर सारंगु

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

लॻह पसु लतीफ़ु चअई। आगमिओ आहे।
उठो मींहुन वॾफुड़ो। कढो धण काहे।
छिन छॾे पुट पओ । समरु सनबाहय।
विहो म लाही। आसिरो अललह मां।।

दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
बैत - 1

मोटी माडाणनि जी। वरी किआइईं वार।
विॼूं वसण आयूं। चोडि॒सि ऐं चौधाऱ।
के उठयूं वञी इस्तांबुला में। किनि मणुओ मग़्रिब पार।
के चमिकनि चीं ते। के लहनि समरक़ंदीनि सार।
के रमी वेयूं रूम ते। के काबुल के क़ंधार।
के दिल्ली ऐं दुखनि। के गुड़नि मथे गिरनार।
कुने जुनबी जैसलमेर तां। ॾिना बीकानेर बुकार।
किनि अची उमिरि कोट जा। वसाया वलहअर।
किनि भुॼु भिॼाइयो। कनि ढट ते ढार।
के लड़ीऊं लाहोर ते। के हलनि मथे हालार।
के पुरीऊं पंजाब ॾे। कनि चिकिल ते चमकार।
सानयम सदाइईं करीं। सिंधुड़ीअ में सुकारु।
दोस्त तूं दिलदार। आलमु सभु आबादु कुरीयन।।

दास्तान चोथों

सुर केॾारो

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों

सुर आबड़ी

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं

सुर देसी

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों
दास्तान यारहों
दास्तान ॿारहों
दास्तान तेरहों
दास्तान चोॾहों

सुर कोहियारी

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों

सुर हसीनी

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों
दास्तान यारहों
दास्तान ॿारहों

सुर सोरठ

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ

सुर राणो

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

शमा ॿारींदे शबु। पिरहा बाखूं खोड़ियूं।
मोटु मरां थी मेंधिरा। राणा कारण रबा।
तुंहिंजीअ ताति तलबा। कांगा उॾायमि काकि जा॥

दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं

सुर खाहोड़ी

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ

सुर रामकली

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों
दास्तान यारहों
दास्तान ॿारहों
दास्तान तेरहों

सुर पूरब

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ

सुर बिलावल

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों

सुर लीला

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों

सुर ॾहरु

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों

सुर जाजकाणी

दास्तान पहिरियों

सुर कापाइती

दास्तान पहिरियों

सुर रुप

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ

सुर आसा

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं

सुर गहातो

दास्तान पहिरियों
बैत - 1

घन्घरिया घण ॼाण। मूड़ही मति मुहाइयें।
वियि गॾिजी वीर में। पिया मुंहिं महराणु।
अॻियां पोयां टाण। वया वोचारनि विसिरी॥

वाई

जेकुसि झलिया मछ। घातू घरि न आइया।
काहे वञो। नाखुआ करियो बुरे ते बछ।
घातू घरि न आइया॥
काथे सन्दियनि कुंडियूं, काथे सन्दियनि रछ।
घातू घरि न आइया॥
कुन कड़िको ॾाढो। अथव अॻियां अछ।
घातू घरि न आइया॥
अदियूं अब्दुल लतीफ़ चे। सभ लंघींदा छछ।
घातू घरि न आइया॥

सुर केॾारो

दास्तान पहिरियों

सुर मारूई

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ
दास्तान चोथों
दास्तान पंजों
दास्तान छहों
दास्तान सतूं
दास्तान अठों
दास्तान नाऊं
दास्तान ॾहों
दास्तान यारहों
दास्तान ॿारहों
दास्तान तेरहों
दास्तान चोॾहों
दास्तान पंधरहूं
दास्तान सोरहों
दास्तान सत्रहों
दास्तान अरिड़हों
दास्तान ऊणीहों
दास्तान वीहों
दास्तान एकीहूं

सुर कामोॾु

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ

सुर कारायल

दास्तान पहिरियों
दास्तान ॿिओ
दास्तान टिओ